होम पेज रेडियो वाटिकन
रेडियो वाटिकन   
more languages  

     होम पेज > कलीसिया >  2013-05-31 16:27:08
A+ A- इस पेज को प्रिंट करें



8 मई 2013



पत्र – 21.04.2013
सेंट पियेर मोरिशस से विद्यानंद रामदयाल ।
आदरणीय पिता जी, प्रभु येसु के नाम में आप सबों को नमस्कार। आज आपके कार्यक्रम में कारखाना मालिक माईकेल ने अपनी जान की परवाह नहीं की, उन्होंने अपने मज़दूरों की जान बचा ली। माईकेल प्रभु येसु के परम भक्त थे।
पत्र - 22.04.2013
सेंट पियेर मोरिशस से विद्यानंद रामदयाल ।
आदरणीय पिता जी, आप सबों को नमस्कार! आज नयी दिशायें कार्यक्रम में रोम में रहने वाली बहन रेनी से भेंट वार्ता काफी पसंद आयी तथा सत्य प्रकाशन केंद्र इंदौर द्वारा प्रस्तुत नाटक "घर लौट चलें" सुना। आपके सभी कार्यक्रम बहुत ही प्रभावशाली एवं ज्ञानवर्द्धक होते हैं।
पत्र- 27.04.2013
नुचिड़ाड़ी से अमरदीप कुजूर।
वाटिकन परिवार के सभी सदस्यों को मेरा प्यार और जय येसु,
वाटिकन रेडियो का मैं नियनित श्रोता हूँ लिकिन पत्र पहली बार लिख रहा हूँ। अतः आप लोगों से क्षमा की याचना करता हूँ। आपके सभी कार्यक्रम ज्ञानवर्द्धक और हृदय स्पर्शी हैं।
पत्र- 27.04.2013
शिवहर जिले के पिपराही तिवारी टोला से महात्मा गाँधी रेडियो लिस्नर्स क्लब के अध्यक्ष श्री मुकुल कुमार तिवारी।
मैं वाटिकन रेडियो दो वर्षों से लगातार सुन रहा हूँ। आपके सभी कार्यक्रम ज्ञानवर्द्धक और मनोरंजक होते हैं। मुझे सबसे अच्छा यहाँ से प्रसारित गीत संगीत का कार्यक्रम लगता है। आप अपने कार्यक्रमों में ग्रामीण श्रोताओं के पत्रों को अधिकाधिक शामिल करें।
पत्र- 16.04.2013
बिहार स्थित भागलपुर से प्रियदर्शिनी रेडियो लिस्नर्स क्लब के अध्यक्ष डॉ. हेमंत कुमार।
"वॉइस ऑफ हार्ट"
मंज़िले बहुत हैं, अफ़साने बहुत हैं, जिंदगी की राहों में इम्तहान आने बहुत हैं मत करो गिला उसका, जो मिला नहीं इस दुनिया में, खुश रहने के बहाने बहुत हैं। ईश्वर आपको आशीष दे।
पत्र - 27.04.2013
बिहार स्थित भागलपुर से प्रियदर्शिनी रेडियो लिस्नर्स क्लब के अध्यक्ष डॉ. हेमंत कुमार।
जग में बची रहे हरियाली, जिससे बनी रहे खुशहाली
हर मौसम रहे सुहाना, ऐसा पर्यावरण चाहिए।
डसने न पाये प्रदूषण, पेड़ धरा का हो अभूषण
प्राण वायु का रहे खजाना, ऐसा पर्यावरण चाहिए।
होता है जो भी उत्सर्जन, उसको करो तुरन्त विसर्जन
जीव जन्तु का रहे ठिकाना, ऐसा पर्यावरण चाहिए।
थल हो निर्मल जल हो निर्मल, जंगल से हो सबका मंगल
धुएँ गैस का जाए जमाना, ऐसा पर्यावरण चाहिए।

Usha Tirkey


कांदिविदी






हम कौन हैं? समय-तालिका सम्पादकीय मंडल के साथ पत्राचार वाटिकन रेडियो की प्रस्तुति सम्पर्क अन्य भाषाएँ संत पापा वाटिकन सिटी संत पापा की समारोही धर्मविधियाँ
All the contents on this site are copyrighted ©. Webmaster / Credits / Legal conditions / Advertising