होम पेज रेडियो वाटिकन
रेडियो वाटिकन   
more languages  

     होम पेज > कलीसिया >  2013-07-17 13:49:20
A+ A- इस पेज को प्रिंट करें



10 जुलाई 2013



पत्र- 12.6.13
डॉ. हेमंत कुमार, प्रियदर्शिनी रेडियो लिस्नर्स क्लब, भागलपुर, बिहार।
एक बार दस व्यक्ति एक नदी पार करके दूसरी ओर पहुँचे, वे एक-दूसरे की गिनती करना चाहते थे कि कहीं कोई तेज धार में बह तो नहीं गया? गिनती हुई तथा पता चला कि एक आदमी कम है। हर आदमी बारी-बारी से गिनती किया लेकिन नतीजा वही एक आदमी कम। तब सभी रोने लगे यह सोचकर कि हमारा एक दोस्त बह गया। एक सुफी वहाँ से गुजर था, रोना सुनकर वह रुक गया उसे तुरन्त समझ में आ गया कि मामला क्या है, उसने सबको एक कतार में खड़ा करके गिनती किया। इस तरह पूरे दस व्यक्ति मिल गये। वास्तव, में हर आदमी खुद को छोड़ कर बाकी लोगों को गिन रहा था।
बदलाव के बारे में भी यही स्थिति है हर कोई खुद को छोड़ देता है और दूसरों को बदलने की कोशिश करता है। इसलिए, हरेक आदमी बदले तो समाज बदल सकता है हमें खुद को बदलने की जिम्मेदारी उठानी है दूसरों को बदलने का हमें कोई हक नहीं, यह उनके व्यक्तिगत मामला पर आक्रमण है जो लोग स्वयं को बदले में लगे हैं, उनके आसपास की दुनिया अपने आप बदलती है।
पत्र- 7.7.13
विद्यानंद रामदयाल, पियर्स मोरिसस।
अब मुझे यहाँ पर आपके ई मेल समाचार द्वारा फिर से वाटिकन रेडियो कार्यक्रम सुनने को मिल रहा है, कार्यक्रम की समीक्षा जल्द ही भेज दूँगा।
पत्र - 20.5.13
डॉ. हेमंत कुमार, प्रियदर्शिनी रेडियो लिस्नर्स क्लब, भागलपुर, बिहार।
जय मसीह की, खुशी के साथ सूचित करना है कि मैं वाटिकन हिन्दी सेवा का नियमित श्रोता हूँ। 11 मई को सुबह की सभा में ‘सामयिक लोकोपकारी’ चर्चा के अंर्तगत सूचना और संचार तकनीकी में लड़कियों के प्रशिक्षण, मजदूरों के हालात से होने वाली बीमारी, मलेरिया आदि के रोकथाम हेतु चलाये जा रहे अभियान और जलवायु परिवर्तन से होने वाले ख़तरे से संबंधित जानकारी प्राप्त किया। रिर्पोट सुचनाप्रद, सारगभित और रोचक लगा। प्रस्तुतकर्ता को हार्दिक धन्यवाद। ईश्वर आप को आशीष दे।

पत्र - 6.7.13
कृपाराम कागा, तेह-चौहटन, बाड़मेर, राजस्थान
मैं वाटिकन रेडियो का नियमित श्रोता हूँ आपके सभी कार्यक्रम बहुत अच्छे लगते हैँ। भारत के ग्रामीण क्षेत्रों में रह रहे श्रोताओं के लिए आप एसएमएस सुविधा बनाएं आप मेरे पते पर स्टीकर, पत्रिका, एवं QSLकार्ड भेजें।
पत्र - 7.7.13
विद्यानंद रामदयाल, पियर्स मोरिसस।
आदरणीय पिता जी। प्रभु येसु के नाम में आप सभी को प्यार भरा नमस्कार।
मुझे यह जानकर खुशी हुई कि भारत के काथलिक पुरोहित अजय सिंह को पुरस्कृत किया गया है फादर अजय प्रभु येसु के सचे भक्त हैं।


Usha Tirkey


कांदिविदी






हम कौन हैं? समय-तालिका सम्पादकीय मंडल के साथ पत्राचार वाटिकन रेडियो की प्रस्तुति सम्पर्क अन्य भाषाएँ संत पापा वाटिकन सिटी संत पापा की समारोही धर्मविधियाँ
All the contents on this site are copyrighted ©. Webmaster / Credits / Legal conditions / Advertising