होम पेज रेडियो वाटिकन
रेडियो वाटिकन   
more languages  

     होम पेज > कलीसिया >  2013-08-30 10:22:39
A+ A- इस पेज को प्रिंट करें



प्रेरक मोतीः सन्त रुमॉन



वाटिकन सिटी, 30 अगस्त सन् 2013:

सन्त रुमॉन को रुआन, रॉनन तथा रुआदान नामों से भी पुकारा जाता है। रुमॉन, सम्भवतः, ट्रेकियर के धर्माध्यक्ष सन्त टुडवाल के भाई थे। इसके अलावा, उनके विषय में इतना ही पता है कि वे आयरलैण्ड के मिशनरी थे तथा इंगलैण्ड के डेवॉन एवं कॉर्नवेल के कई गिरजाघर सन्त रुमॉन को समर्पित हैं। कुछेक आचार्यों का कहना है कि सन्त रुमॉन तथा ब्रिटनी में आराधित सन्त रोनान एक ही व्यक्ति हैं जो सन्त पैट्रिक द्वारा धर्माध्यक्ष अभिषिक्त किये गये थे। तथापि, कुछ अन्यों का विश्वास है कि सन्त रुमॉन और सन्त केया ब्रिटेन के काथलिक मठवासी भिक्षु थे जिन्होंने स्ट्रीट सॉमरसेट में एक मठ का निर्माण करवाया था।

इंगलैण्ड के डेवॉन स्थित तावीस्टॉक में बेनेडिक्टीन धर्मसमाजी मठ के खण्डर हैं जिन्हें माँ मरियम तथा सन्त रुमॉन को समर्पित मठ के नाम से जाना जाता है। इसी मठ में मरियम तथा सन्त रुमॉन को समर्पित एक गिरजाघर भी है जिसे सन् 997 ई. में, डेनमार्क के हमलावरों ने ध्वस्त कर दिया था। बाद में, द्वितीय मठाध्यक्ष लाईफिंग द्वारा इस गिरजाघर का पुनर्निर्माण करवाया गया था। सन् 1285 ई. में गिरजाघर का एक बार फिर निर्माण करवाया गया था तथा यहाँ स्थित मठ का पुनर्निमाण 1457 ई. तथा 1458 ई. के बीच करवाया गया। इस प्रकार यह कहा जा सकता है कि सन्त रुमॉन, बेनेडिक्टीन धर्मसमाज के काथलिक भिक्षु थे। सन्त रुमॉन का पर्व 30 अगस्त को मनाया जाता है।

चिन्तनः कठिन परीक्षा की घड़ियों में भी हम प्रभु येसु ख्रीस्त में अपना विश्वास नहीं खोयें तथा जीवन के हर पल सुसमाचार के साक्षी बनें।

Juliet Genevive Christopher


कांदिविदी






हम कौन हैं? समय-तालिका सम्पादकीय मंडल के साथ पत्राचार वाटिकन रेडियो की प्रस्तुति सम्पर्क अन्य भाषाएँ संत पापा वाटिकन सिटी संत पापा की समारोही धर्मविधियाँ
All the contents on this site are copyrighted ©. Webmaster / Credits / Legal conditions / Advertising