होम पेज रेडियो वाटिकन
रेडियो वाटिकन   
more languages  

     होम पेज > कलीसिया >  2013-11-20 15:01:37
A+ A- इस पेज को प्रिंट करें



6 नवम्बर 2013



श्रोताओं के पत्र
पत्र- 7.9.13
आदरणीय पिता जी, प्रभु येसु के नाम में आप सभी को प्यार भरा नमस्कार। नई दिशाएँ कार्यक्रम में पूज्य फादर विनोद जी के साथ भेंटवार्ता काफी अच्छी लगी, धन्यवाद।
विद्यानन्द राम दयाल, पियर्स मोरिशस।
पत्र- 17.10.13
जिस तरह नवरात्र मेँ फायलिन तूफान ने साल भर के इस महापर्व को महत्वहीन कर दिया वह हम लोगों के लिए चिंतनीय है। मौसम का रुख जिस तरह बदल रहा है वह ख़तरे की घंटी जैसी है। अब मौसम का कोई स्पष्ट विभाजन नहीं रह गया है। किसी भी मौसम में सर्दी-गर्मी और बरसात आ जाती है। तेज बारिश, कटते वृक्ष, पाताल तक खोदे जाने वाले खदान, दिन-रात फैक्टरी से निकलने वाला विषैला धुआं, गाड़ियोँ की भरमार आदि पारिस्थितिक संतुलन को असंतुलित कर रही है जिसका परिणाम है फायलिन जैसा तूफान। अगर वक्त रहते इस पर ध्यान नहीं दिया गया तो ऐसे कितने तूफान और आएंगे जिससे प्रकृति के प्रति उपेक्षा के गंभीर परिणाम हमें भुगतने होंगे।
डॉ. हेमन्त कुमार, भागलपुर के गोराडीह से प्रियदर्शनी रेडियो लिसर्न्स क्लब के अध्यक्ष।
पत्र-18.10.13
18 अक्तूबर को शाम की सभा में 19 मीटर बैंड पर, साप्ताहिक सामयिक लोगोपकारी चर्चा के तहत, महबूब खान जी ने 2 अक्तूबर को अहिंसा दिवस पर, ‘संयुक्त राष्ट्र के महा सचिव बान किमून के विचार’, ‘विश्व में अभी भी लोग कुपोषण के शिकार हैं’ के बारे तथा सहस्राब्दी विकास लक्ष्यों के प्राप्ति विषय पर विस्तार पूर्वक चर्चा किया। जो काफी ज्ञानवर्द्धक लगा। इसके लिए आप सभी को धन्यवाद। क्योंकि आज हिंसा को खत्म करने की शुरुआत हम सभी को मिलकर करना होगा। आज कल आपका प्रसारण बहुत ही साफ सुनाई दे रहा है। वाटिकन भारतीय पत्रिका भेज दें।
राजेश कुमार, बिहार स्थित मुजफ्फरपुर के पारसा पात्ती, मध्य माथ।
पत्र-19.10.13
हमारी सरकार को गड़े खजाने खोजने के बदले विदेशोँ मेँ संचित काले धन को भारत वापस लाने की जरूरत अधिक है क्योंकि हमारे गड़े खजाने तो भारत में ही है, कभी न कभी मिल ही जायेंगे, पर हमारा काला धन तो विदेश में है जिसका वापस स्वदेश आना असंभव भी हो सकता है।
डॉ. हेमान्त कुमार, भागलपुर के गोराडीह से प्रियदर्शनी रेडियो लिसर्न्स क्लब के अध्यक्ष।

पत्र- 1.10.2013
प्यारे फादर जस्टिन, शांति का नमस्कार।
आप कैसे हैं? आशा करता हूँ कि आप सकुशल होंगे।
मैं अपने पल्ली के कार्यों में व्यस्त हूँ: सभी प्रकार के लोगों से मुलाकात करने तथा अन्य प्रेरितिक कार्यों में। मैं खुशी के साथ आपको सूचित करता हूँ कि मैंने कई पल्ली वासियों के वाटिकन रेडियो की जानकारी दी है तथा उन्हें कार्यक्रम सुनाया भी है। हम प्रार्थना में एक दूसरे से जूड़े रहें। आप सभी को मेरा प्यार भरा नमस्कार।

Usha Tirkey


कांदिविदी






हम कौन हैं? समय-तालिका सम्पादकीय मंडल के साथ पत्राचार वाटिकन रेडियो की प्रस्तुति सम्पर्क अन्य भाषाएँ संत पापा वाटिकन सिटी संत पापा की समारोही धर्मविधियाँ
All the contents on this site are copyrighted ©. Webmaster / Credits / Legal conditions / Advertising