होम पेज रेडियो वाटिकन
रेडियो वाटिकन   
more languages  

     होम पेज > कलीसिया >  2014-01-03 14:31:30
A+ A- इस पेज को प्रिंट करें



मंदिर में बाईबिल कि पूजा



धरवाड़, शुक्रवार, 3 जनवरी 2014 (उकान): भारत के कर्नाटक राज्य में एक अद्वितीय परम्परा है जहाँ के एक मंदिर में बाईबिल की पूजा की जाती है।
धरवाड़ जिले के धवलगंध शहर स्थित मंदिर का पुजारी अजाता नागागिंस्वामी बाइबिल को फूल, आरती एवं धूप अर्पित करता है।
मंदिर के प्रमुख पुजारी विरेन्द्रस्वामी ने कहा कि बाईबिल की यह प्रति जर्मन मिशनरी समिति द्वारा लंदन एवं वेस्लेयान मिशनरी सोसाईटी द्वारा बैंगलोर में सन् 1865 ई. में प्रकाशित की गयी थी।
विदित हो कि बाईबिल पूजा के पीछे एक सुन्दर कथा है, जब बागालकोट जिले स्थित मुस्तिजेरी गाँव के कलाप्पा माता देवी की पूजा करता था। उस समय मिशनरियों का एक दल मंदिर के दर्शन के लिए आया था और उन लोगों ने मंदिर के पुजारी को बाईबिल की एक प्रति भेंट की थी। जब नागागिंस्वामी कालाप्पा के सम्पर्क में आया तो उसने बाईबिल को छिपा लिया।



Justin Tirkey


कांदिविदी






हम कौन हैं? समय-तालिका सम्पादकीय मंडल के साथ पत्राचार वाटिकन रेडियो की प्रस्तुति सम्पर्क अन्य भाषाएँ संत पापा वाटिकन सिटी संत पापा की समारोही धर्मविधियाँ
All the contents on this site are copyrighted ©. Webmaster / Credits / Legal conditions / Advertising