होम पेज रेडियो वाटिकन
रेडियो वाटिकन   
more languages  

     होम पेज > कलीसिया >  2014-02-11 07:16:44
A+ A- इस पेज को प्रिंट करें



प्रेरक मोतीः लूर्द की रानी



वाटिकन सिटी, 11 फरवरी सन् 2014

11 फरवरी को काथलिक कलीसिया लूर्द की रानी माँ मरियम का पर्व मनाती है। फ्राँस के लूर्द नगर में, 11 फरवरी सन् 1858 ई. को, मरियम ने किसान परिवार की 14 वर्षीय बेरनादेत्त सोबीरस को दर्शन दिये थे। इसके बाद कई बार बेरनादेत्त ने और फिर कुछ अन्य लोगों ने भी माँ मरियम के दर्शन प्राप्त किये। अपनी बहन एवं एक सहेली के साथ जंगल से लकड़ी बीनने गई बेरनादेत्त ने उस दिन घर लौट कर अपनी माँ को बताया था कि उसने लूर्द नगर से लगभग एक मील की दूरी पर स्थित मासाबिले की गुफा में नीले कमरबन्द सहित, श्वेत परिधान धारण किये, एक सुन्दर युवती को देखा था। इसके बाद उसी वर्ष 17 ऐसे ही अवसरों पर मरियम ने दर्शन दिये थे।

इन दर्शनों के बाद लूर्द स्थित मासाबीले की गुफा में मरियम भक्ति प्रचलित हो गई तथा मरियम की मध्यस्थता से कई लोगों ने चंगाई प्राप्त की। कई चमत्कारों के प्रमाणित होने के उपरान्त, सन् 1862 ई. में सन्त पापा पियुस 11 वें ने तत्कालीन धर्माध्यक्ष बेरट्रान्ड ज़ेवेरे लॉरेन्स को, आधिकारिक रूप से, लूर्द में धन्य कुँवारी मरियम भक्ति की अनुमति प्रदान कर दी। हज़ारों लोगों को लूर्द के झरने से निकलनेवाले जल से स्नान के बाद अथवा इसके पी लेने के बाद मिली चंगाई के कारण लूर्द की रानी मरियम को रोगों से मुक्ति दिलानेवाली शीर्षक भी प्रदान किया गया। इसीलिये 11 फरवरी को ही काथलिक कलीसिया ने विश्व रोगी दिवस मनाने की घोषणा की है। इस दिन सभी ख्रीस्तीयों को आमंत्रित किया जाता है कि वे रोगग्रस्त लोगों के लिये प्रार्थना करें।

धन्य सन्त पापा जॉन पौल द्वितीय ने अपने परमाध्यक्षीय काल के दौरान तीन बार लूर्द की तीर्थयात्रा कर माँ मरियम के चरणों में श्रद्धासुमन चढ़ाये थे। सन् 2008 ई. में लूर्द की रानी के दर्शन की 150 वीं वर्षगाँठ की स्मृति में, सन्त पापा बेनेडिक्ट 16 वें ने भी, लूर्द की तीर्थयात्रा की थी।


चिन्तनः (लूर्द की रानी माँ मरियम से प्रार्थना) हे कुँवारियों की कुँवारी! स्वास्थ्य की स्वामिनी लूर्द का रानी माँ मरियम! तू मेरी आत्मा और शरीर का सहारा है। तेरी दया और शक्ति पर पूरी आशा रखकर मैं तेरे पास दौड़ आता हूँ। मेरा रोग दूर कर कि मैं तेरे पुत्र की और तेरी महिमा गाऊँ। सभी रोगियों को ढ़ाढस दिला। उनकी अच्छी मृत्यु के लिए सहायता कर। हे कृपामयी माता! मुझे वह सहन शक्ति दे कि मैं सभी सांसारिक प्रलोभनों से बचकर अपनी आत्मा को पवित्र रखूँ।

Juliet Genevive Christopher


कांदिविदी






हम कौन हैं? समय-तालिका सम्पादकीय मंडल के साथ पत्राचार वाटिकन रेडियो की प्रस्तुति सम्पर्क अन्य भाषाएँ संत पापा वाटिकन सिटी संत पापा की समारोही धर्मविधियाँ
All the contents on this site are copyrighted ©. Webmaster / Credits / Legal conditions / Advertising