होम पेज रेडियो वाटिकन
रेडियो वाटिकन   
more languages  

     होम पेज > कलीसिया >  2014-02-15 15:57:00
A+ A- इस पेज को प्रिंट करें



साथ चलने के लिए सहायक तीन शब्द



वाटिकन सिटी, शनिवार, 15 फरवरी 2014 (वीआर सेदोक): संत पापा फ्राँसिस ने शुक्रवार 14 फरवरी को संत वलेन्टाईन के पर्व दिवस पर, रोम स्थित संत पेत्रुस महागिरजाघर के प्राँगण में 30 देशों से एकत्र करीब 20 हज़ार मंगेतर जोड़ों से मुलाकात की।
मुलाकात में संत पापा ने उन्हें संदेश देते हुए कहा कि वे अपने विवाहित जीवन की नींव भावनाओं के बालू पर निर्मित न करें किन्तु सच्चे प्यार की चट्टान पर स्थापित करें जो ईश्वर की देन है।
त्यौहार के महत्व को लोगों ने संगीत, नृत्य, साक्ष्य, प्रार्थना एवं चिंतन द्वारा उजागर किया। उन्होंने संत पापा से कई प्रश्न भी किये।
रैली का आयोजन वाटिकन की परिवार संबंधी परमधर्मपीठीय समिति द्वारा किया गया था जिसकी विषय वस्तु थी "’हाँ’ की खुशी सदा के लिए।"
संत पापा ने शादी के लिए तैयारी करने वाले उन लोगों की बातों को याद किया जो कहते हैं कि वे तब तक एक साथ है जब तक एक दूसरे के प्रति प्यार है। उन्होंने चेतावनी देते हुए कहा कि आज के युग में कुछ भी स्थायी नहीं है, सबकुछ बदलता है। बहुत से लोग जीवन भर का चुनाव करने से डरते हैं उनके लिए यह असम्भव प्रतीत होता है किन्तु हमें ‘क्षणिक’ या ‘कुछ समय’ के लिए जैसे संस्कृति से ऊपर उठना है। यदि प्यार मानसिक स्तर पर एक भावना मात्र है तो यह बालू पर बनी ईमारत के समान है। दूसरी ओर, यदि प्यार एक रिश्ता है जो सदा एक साथ बने रहने से पोषित होता है तो यह चट्टान पर बने मकान की तरह है जो ईश्वर के प्यार से आता है। एक साथ जीने का भय प्रतिदिन ईश्वर पर भरोसा करने से दूर हो जाता है। आध्यात्मिक यात्रा में एक साथ कदम बढ़ाने से नर और नारी विश्वास में मज़बूत बनते हैं।
संत पापा ने वैवाहिक जीवन को एक साथ जीने की एक कला और एक धैर्यशील चाल बतलाया किन्तु इसे सुन्दर एवं अति मनोहर कहा। उन्होंने कहा कि दैनिक जीवन में एक दूसरे के साथ चलने की एक नीति है जिसका सार तीन शब्दों में है वे शब्द हैः कृपया, धन्यवाद एवं क्षमा करें। यह परिवार को स्वस्थ्य बनाये रखता है।
संत पापा ने सभी मंगेतर जोड़ों से आग्रह किया कि वे येसु से प्रार्थना करें ताकि वे उनके बीच के प्यार को बढ़ा दें, उसी तरह जिस तरह उन्होंने रोटियों के चमत्कार से भीड़ को खिलाया था। संत पापा ने सभी जोड़ों से आग्रह किया कि वे ‘हे पिता हमारे पिता’ प्रार्थना का पाठ करते समय ‘प्रतिदिन का आहार आज हमें दे’ के स्थान पर ‘हमें एक दूसरे से प्यार करना सिखला’ जोड़ कर प्रार्थना करें।
संत पापा ने कहा कि आप जितना अधिक ईश्वर पर विश्वास करेंगे उनता ही आपका प्यार बना रहेगा, आप स्वतः को नवीकृत कर पायेंगे तथा कठिनाईयों का सामना करने में समर्थ होंगे।

Usha Tirkey


कांदिविदी






हम कौन हैं? समय-तालिका सम्पादकीय मंडल के साथ पत्राचार वाटिकन रेडियो की प्रस्तुति सम्पर्क अन्य भाषाएँ संत पापा वाटिकन सिटी संत पापा की समारोही धर्मविधियाँ
All the contents on this site are copyrighted ©. Webmaster / Credits / Legal conditions / Advertising